Paymanager related all type problem solution part 2

Paymanager related all type problem solution part 2. Here, an attempt has been made to solve all kind of problem related to paymanager. After this, if there is any kind of problem, then you should enter your problem in the comment section below so that a proper solution can be made.

प्रश्न 1 – DA Preparation कैसे काम करता है ?

उत्तर – DA arrear में DA का बिल तैयार किया जाता है तथा यदि किसी प्रकार का संशोधन करना हो तब DA Arrear Updation विकल्प में जाकर amount को अपडेट किया जाता है।

Question 1 – How does DA Preparation work ?

Answer – DA bill is prepared in DA arrear and if any kind of modification is to be done then the amount is updated by going to DA Arrear Updation option.

प्रश्न 2 – मुझे जुलाई माह में कार्यालय के सभी कार्मिको के एक साथ increment लगाना है। कृपया मार्गदर्शन प्रदान करवावें |

उत्तर – यदि आप जुलाई माह में कार्यालय के सभी कार्मिको को एक साथ इन्क्रीमेंट लगाना चाहते है, तो आपको increment basic विकल्प का प्रयोग करना होगा। आप इससे सभी कर्मचारियों को एक साथ वेतनवृधि (Increment) लगा सकते है |

Question 2 – I have to increase the increment of all office personnel in the month of July. Please provide guidance.

Answer – If you want to increase all the employees of the office together in the month of July, then you have to use the increment basic option. With this, you can apply increment to all employees simultaneously.

प्रश्न 3 – छात्रवृत्ति, वाहन किराया और पेंशन बिल के लिए Object code क्या – क्या है ?

उत्तर – वाहन किराया के बिल बनाने के लिए object Head 36, छात्रवृत्ति बिलों के लिए 13 और पेंशन बिलों के लिए 84 है।

Question 3 – What is the Object Head for Scholarship, Vehicle Rental and Pension Bill ?

Answer – Object Head 36 for making vehicle rent bills, 13 for scholarship bills and 84 for pension bills.

Related Post :

  1. Paymanager related all type problem solution part 1
  2. Paymanager par Allowance or Deduction related problem solution

प्रश्न 4 – ‘View bill status’ विकल्प क्या है ? इसका प्रयोग कब किया जाता है |

उत्तर – जब बिलों को ट्रेजरी forward करके कोषालय में भेज दिया जाता है | इसके पश्चात बिलों की वास्तविक स्थिति की जानकारी पत्ता करने के लिए इसी विकल्प का प्रयोग जाता हैं |
बिल पर टोकन नंबर (Token number) जारी हुआ या नही। प्रेषित किया गया बिल (Forward bill) पास हुआ या नही । इसकी सम्पूर्ण जानकारी (Information) यहाँ से मिल जाती है।

Question 4 – What is the ‘View bill status’ option? When is it used ?

Answer – When the bills are forwarded to the treasury and sent to the treasury. After this, this option is used to know the actual status of bills. Whether the Token number was released on the bill or not. Whether the bill forwarded passed or not. Complete information is available from here.

प्रश्न 5 – ‘Employee dates’ क्या है ? समझाइये |

उत्तर – कर्मचारी की नियुक्ति तिथि (प्रथम कार्यग्रहण दिनांक) से लेकर समस्त प्रकार की तिथियां यथा वर्तमान कार्यालय में कार्यग्रहण दिनांक, वर्तमान पद पर कार्यग्रहण दिनांक आदि fill करनी होती है | इन सभी दिनांक को fill करना अनिवार्य होता है । जब कभी भी बोनस बिल बनाने में कोई परेशानी का सामना करना पड़ता है, तो इसका मुख्य कारण इन्ही तिथियों (Dates) का पूर्ण नहीं होना होता है। अतः सभी प्रकार की दिनांक को आवश्यक रूप (Required form) से पूर्ण करें |

Question 5 – What is ‘Employee dates’ ? Explain. 

Answer – From the appointment date of the employee, all types of dates like joining date in current office, joining date of current post, etc. have to be filled. It is mandatory to fill all these dates. Whenever you face any problem in making bonus bill, the main reason for this is not the completion of these dates. So, complete all types of dates with the required form.

प्रश्न 6 – ‘Dual Bill Process’ का उपयोग कब किया जाता है ?

उत्तर – जब भी आप दोहरा कार्य भत्ता के बिलों को बनाते है तो बिलों को इस विकल्प से process किये जाते हैं | इसमें कार्य भत्तों की दरों का इंद्राज भी किया जाता है।

Question 6 – When is ‘Dual Bill Process’ used ?

Answer – Whenever you make double work allowance bills, the bills are processed with this option. Indraj of rates of work allowances are also done in this.

प्रश्न 7 – किसी कर्मचारी का paymanager पर पूर्व में ‘master’ बना हुआ हैं या नहीं । कैसे जाँच किया जा सकता है |

उत्तर – आपको कर्मचारी का paymanager पर पूर्व में ‘master’ बना हुआ हैं या नहीं जाँच करने के लिए निम्न staps को follow करना हैं –
Reports ➤ DDO reports ➤ Employee Related reports ➤ Employee ID wise detail.

Question 7 – Whether an employee has ‘master’ on paymanager in the past. How to check ? 

Answer – You have to follow the following staps to check whether the employee has ‘master’ on the paymanager in the past.

Reports ➤ DDO reports ➤ Employee Related reports ➤ Employee ID wise detail.

प्रश्न 8 – किसी कर्मचारी की भुलवंश “Double Paymanager ID” जारी हो गई है। अब क्या समाधान हो सकता है ?

उत्तर – यदि paymanager पर एक से अधिक MASTER तैयार हो गए है | ऐसी परिस्थिति में नए बने master को पहले से बने हुए master में मर्ज करने के लिए आपके DDO के द्वारा कोषालय को एक पत्र लिखा जाएगा | जिसमे उस कर्मचारी के दोनों ‘Employee master’ का ‘NICUID No.’ भी आपको लिखना होगा |

Question 8 – The “Double Paymanager ID” of an employee has been issued. What can be the solution now ?

Answer – If more than one MASTER is prepared on the paymanager. In such a situation, a letter will be written by your DDO to the treasury to merge the newly created master into the already created master. In which both the ‘Employee master’ of that employee’s ‘NICUID No.’ You also have to write.

प्रश्न 9 – FVC master कब तैयार किया जाता है ?

उत्तर – जब कभी कार्यालय व्यय से FVC बिल के द्वारा Third party को भुगतान प्रदान किया जाता है | तब प्रथम कार्य उसका FVC मास्टर तैयार करने का होता है | जिसमे आप के द्वारा फर्म का नाम, बैंक खाता संख्या, बैंक ब्रांच का नाम, IFSC number, PAN नम्बर तथा मोबाइल नम्बर मुख्य रूप से फीड करने होते है।

Question 9 – When is FVC master prepared ?

Answer – Whenever FVC bill is paid from office expenses to third party. Then the first task is to prepare its FVC master. In which you have to mainly feed the name of the firm, bank account number, bank branch name, IFSC number, PAN number and mobile number.

प्रश्न 10 – ‘DDO information’ को पूर्ण करने का मुख्य उपयोग क्या है ?

उत्तर – Master में DDO Information को पूर्ण करने का एक विकल्प आता है ‘Fill DDO Information’ आप यहाँ जाकर जरुरी सूचनाएं पूर्ण कर सकते हैं |
इससे कोषालय के द्वारा बिल के objection एवं रिवर्ट होने की सुचना DDO को तुरन्त मिल जाती है।

Question 10 – What is the main use of completing ‘DDO information’ ?

Answer – In Master there is an option to complete DDO Information ‘Fill DDO Information’ You can complete the required information by going here. With this, the DDO immediately gets information about objection and reversal of the bill by the treasury.

प्रश्न 11 – वेतन एरियर बिल (Salary Arrear Bill) आयकर (Income tax) के नही काटे जाने के कारण कोषालय (Treasury) से रिवर्ट (Revert) हुआ है। क्या बिल को डिलीट (Delete) करके पुनः बनाने की आवश्यकता होगी ?

उत्तर – नही यहाँ आपको दूसरा बनाने की आवश्यकता नही होगी । आप पहले बिल को कोष कार्यालय से रिवर्ट करे। उसके पश्चात आप बिल को DDO के माध्यम से रिवर्ट करे | ऐसा करने के कारण बिल का प्रोसेस हट जाएगा | अभी आप आवश्यक संशोधन करके बिल को DDO व ट्रेजरी को फारवर्ड कर दे।

Question 11 – Salary Arrear Bill Revert from Treasury due to non-deduction of Income Tax. Will the bill need to be deleted and recreated ?

Answer – No, you will not need to make another one here. You first revert the bill from the treasury office. After that you revert the bill through DDO. Due to this, the process of the bill will be removed. Now, make necessary amendments and forward the bill to DDO and Treasury.

प्रश्न 12 – RSCIT की राशि पुनर्भरित करने के लिए आवश्यक प्रक्रिया समझाएं |

उत्तर – प्राप्त विभागीय निर्देशानुसार उक्त राशि का पुनर्भरण (भुगतान) कार्यालय व्यय के द्वारा किया जाना है अतः आप सर्वप्रथम 3350 रुपए प्रति कार्मिक की दर से BUDGET HEAD 05 में बजट की मांग ऑनलाइन करें | इसके बाद बजट प्राप्त हो जाने के उपरांत FVC के बिल बनाकर कोष कार्यालय में प्रस्तुत करें ।

Question 12 – Explain the procedure required to recharge the amount of RSCIT.

Answer – According to the received departmental instructions, the said amount is to be repaid (paid) by the office expenses, so first of all you should ask for the budget online at BUDGET HEAD 05 at the rate of Rs 3350 per person. After this, after receiving the budget, the FVC bills should be prepared and presented to the treasury office.

प्रश्न 13 – यात्रा व्यय (TA) बिल बनाने के लिए पे मैनेजर पर बजट की मांग की प्रक्रिया क्या है, समझाइये (शिक्षा विभाग) ?

उत्तर – यात्रा भत्ता (Travelling Allowance) बजट डिमांड हेतु मांग Online शाला दर्पण पोर्टल के माध्यम से की जाती है |

Question 13 – Explain (Department of Education) what is the process of demanding budget on Pay Manager for making travel expenditure (TA) bill ?

Answer – Traveling Allowance is demanded for budget demand through the online school mirror portal.

प्रश्न 14 – कार्यालय के किसी एक बजट मद (Budget Head) में राशि शेष नही है। बजट की डिमांड (Budget Demand) कैसे की जाएं ?

उत्तर – वेतन मद (01), TA, Medical तथा वर्दी हेतु बजट की डिमांड शाला दर्पण पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन ही की जाती है।

Question 14 – There is no balance left in any one of the budget head of the office. How to make Budget Demand ?

Answer – Demand for salary item (01), TA, Medical and uniforms is made online through Shala Darpan portal.

Go to main website : Click Here

Spread the love

3 thoughts on “Paymanager related all type problem solution part 2”

  1. FVC बिल में थर्ड पार्टी का मोबाइल न गलत फीड हो गया ADIT करने पर सही नही हो रहा रिसेट करने पर सही अकाउंट न ऐड करने पर BILL ALREADY EXSIT बताता ह न्यू THIRD पार्टी बिल बनाने पर बी BILL ALREADY EXSIT बताता ह अकाउंट अपडेट केसे KARNE

    Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!