Casual Leave (CL) and Special Casual Leave in hindi

Casual Leave (CL) and Special Casual Leave सामान्य जानकारी :

स्थाई रूप से कार्यरत्त कर्मचारी को एक वर्ष में 15 आकस्मिक अवकाश देय है | एक कर्मचारी एक बार में अधिकत्तम 10 दिन तक का आकस्मिक अवकाश (casual leave) ले सकता है | सक्षम अधिकारी द्वारा एक बार में 10 दिन से अधिक आकस्मिक अवकाश (casual leave) स्वीकृत नहीं किया जाता हैं |

इस अवकाश को किसी अवधि के पूर्वगामी या पश्चातगामी या मध्य में Sunday, राजकीय अवकाश (Government Holiday) या साप्ताहिक अवकाश आवे तो उसे आकस्मिक अवकाश (casual leave) का अंश नहीं माना जाता | State employee को अपना मुख्यालय / जिला बिना पूर्वानुमति के छोड़ने की अनुमति नहीं प्रदान की गयी है |

  • राज्य कर्मचारियों को आधे दिन का भी आकस्मिक अवकाश स्वीकृत किया जा सकता है |
  • शिक्षकों के लिए आकस्मिक अवकाश की गणना 1 जुलाई से 30 जून तक की जाती है |
  • मंत्रालयिक कर्मचारियों के लिए आकस्मिक अवकाश की गणना 1 जनवरी से 31 दिसम्बर तक की जाती है |
  • नव नियुक्त कर्मचारी को भी सातवें वेतन आयोग के अनुसार कार्य ग्रहण दिनांक से पूर्ण कैलेंडर वर्ष पर 15 आकस्मिक अवकाश देय होंगे |
  • कैलेंडर वर्ष की अपूर्णता की स्थिति में आनुपितक आधार पर उसके द्वारा प्रत्येक पूर्ण माह की सेवा के एवज में 1.25 आकस्मिक अवकाश का लाभ देय होगा |
  • इससे अधिक अवकाश की स्थिति में अवैतनिक अवकाश स्वीकृत किया जा सकेगा |

Must Read : 

  1. Half pay leave /Commuted leave
  2. Child Care Leave

राजस्थान सेवा नियम 1951 के नियम 122 (क) के अनुसार राजकीय सेवा में चल रहे परिवीक्षाधीन कर्मचारी, परिवीक्षाधीन अवधि में अन्य किसी भी प्रकार का अवकाश अर्जित नहीं करेगा |

राजस्थान सेवा नियम 1951 के खंड ll के परिशिष्ट l के अनुभाग lll में आकस्मिक अवकाश के सम्बन्ध में दिए गए explanation के अनुसार किसी राज्य कर्मचारी को आ. अवकाश का उपभोग करने से पूर्व अपवाद स्वरुप परिस्थितियों के अलावा ऐसे अवकाश की पूर्व स्वीकृति प्राप्त करना आवश्यक है |

  • तीन दिन तक लगातार 10 मिनट की देरी से आना एक आकस्मिक अवकाश के समान माना जायेगा | अतः कर्मचारी का 1 आकस्मिक अवकाश की कटौती की जाएंगी |

Other Important Post :

  1. House Rent Allowance (HRA) – Rules, Formats
  2. Paymanager – How to Employee Login
  3. How to view and download Form 26AS

राज्य सरकार के आदेश क्रमांक प 1 (4) वित्त/ नियम /2008 दिनांक 14.02.2012 के अनुसार यदि कोई राज्य कर्मचारी casual leave लेकर निजी विदेश यात्रा करना चाहे तो उसे casual leave का आवेदन पत्र कम से कम 3 सप्ताह पूर्व सक्षम अधिकारी को देना होगा l जिससे समय पर कर्मचारी के अवकाश स्वीकृत / अस्वीकृत किया जा सकें |
वित्त विभाग के आदेश एफ 1 (8) विवि (नियम)/95 दिनांक 20-2-2002 जो दिनांक 1-1-2002 से प्रभावशील है , के अनुसार सेवा निवृत होने वाले कर्मचारियों को वर्ष में निम्नानुसार आकस्मिक अवकाश (casual leave) देय होंगे –

  • तीन माह या इससे कम सेवा शेष होने पर – 5 Days
  • तीन माह से अधिक किन्तु छ: माह तक सेवा शेष होने पर – 10 Days
  • छ: माह से अधिक सेवा शेष होने पर – 15 Days

vacation से Non vacation या विपरित में आने पर उस कर्मचारी का आ. अवकाश (casual leave) जिसका वहाँ उपयोग नहीं किया गया है समाप्त हो जायेगा और नये स्थान पर निम्न प्रकार से अवकाश देय होगा –

  • तीन माह तक की अवधि शेष रहने पर – 3 Days
  • तीन माह से अधिक अवधि शेष रहने पर – 7 Days

आकस्मिक अवकाश (casual leave) के साथ अन्य प्रकार के अवकाश जैसे पी. एल., रुपान्तरित अवकाश (leave) इत्यादि नहीं लिया जा सकता है । प्रतिवर्ष प्रत्येक शिक्षक का सी. एल. posting register संधारित किया जाना आवश्यक हैं ।


Also Read :

  1. PayManager – Pay Bill Preparation System For Govt Employees
  2. Paymanager – how to create a salary bill
  3. e-GRAS (Government Receipts Accounting System)

विशिष्ट आकस्मिक अवकाश :

  • पुरुष कर्मचारी को 6 दिवस  व महिला कर्मचारी को 14 दिवस का अवकाश बन्ध्याकरण हेतु।
  • पत्नी द्वारा बन्ध्याकरण कराने पर पुरुष कर्मचारी को 7 दिवस का अवकाश।
  • निरोधावकाश – छूत की बीमारी होने पर 21 दिवस का अवकाश।
  • शैक्षिक अवकाश – माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की बैठक या परीक्षा कार्य, राज्य सरकार द्वारा स्वीकृत सेमीनार, कार्यगोष्ठी में भाग लेने पर आदि देय मान्यता प्राप्त शिक्षक संघों के पदाधिकारियों को बैठकों में भाग लेने हेतु अधिकत्तम एक कलेण्डर वर्ष में 10 दिवस देय
  • कर्मचारी खिलाड़ियों को स्थानीय -राज्य स्तर के टूर्नामेन्ट में भाग लेने पर 10 दिवस व राष्ट्रीय स्तर पर खेल में भाग लेने पर एक कलेण्डर वर्ष में अधिकत्तम 30 दिवस का अवकाश देय ।
Spread the love

Leave a Comment

error: Content is protected !!